गुरुवार, 22 जुलाई 2010

आदत...

आदत डाल लो,
समस्या जड़ से ख़त्म हो जायेगी
इसलिए,आदत डाल ली हमने
भूख से लड़ने की आदत
भय में जीने की आदत
गरीबी से जूझने की आदत
प्रताड़ित होने की आदत
कड़ी धुप में पत्थर तोड़ने की,
खेत गोड़ने की,झुलसते हाथों से
भट्टी में कोयला झोंकने की,
फूटपाथ पर नंगे बदन सोने की,
रात को थकावट दूर करने के लिए
नशा लेने की,
आदत डाल ली हमने...

सदियों से आदत डाली गयी,
खामोश रहकर जीने की
सर झुकाकर चलने की
अन्याय सहते रहने की
कहा गया इसी में भलाई है
आदत डाल लो वरना
जीवन भर पिटाई ही पिटाई है
आदत डाल ली हमने...

महल,बंगले बनाते हम
झोंपड़ी भी नसीब नहीं हमको
सड़के-बाँध बनाते हम
बेघर किया जाता हम्ही को
सरकार चुनते हम
शोषण होता हमारा ही
आदत डाल ली हमने...

जेनरल बोगी में,जानवरों की तरह
सफ़र करने की,मरकर जीने की
एक घड़े पानी के लिए
घंटों लाइन में लगने की
बेड ना मिलने की वजह से
अस्पताल के गेट पर दम तोड़ने की
मास्टर से मार-गाली खाने की
आदत डाल ली हमने...

कई लड़ाइयाँ जिताई हमने,
नाम हुआ सेनापति का
कई बलिदान दिए हमने,
अमर हुए नेहरु,पटेल
कई कारखाने खड़े किये हमने,
नाम हुआ सिर्फ मालिक का
कोई गम नहीं,हमने
इसकी भी आदत डाल ली

तुमने भी आदत डाली
शैम्पैगं,व्हिस्की,सिगार,चरस,
कोकीन पीने की,सबसे ख़ास
गरीब का खून पीने की ...
तुमने आदत डाल ली
हमें रौंदते हुए आगे बढ़ने की
हमारे इज्जत से खेलने की
ऐयाशी और आराम करने की
हमें अँधेरे में रखने की

बहुत हुआ अब
हम भी आदत डाल रहे हैं
इस आदत को बदलने की आदत
अब डाल रहे हम नयी आदत
अपने हक़ के लिए लड़ने की ,
अन्याय न सहने की ,
अपने अधिकारों को पाने की
सीना तान कर चलने की
सूर्य की लालिमा में जीने की
हम डाल रहे हैं नयी आदत ...

3 टिप्‍पणियां:

  1. सच कह रहे हो दोस्त ,very nice post and thank you.

    --हिन्दी ब्लाँग जगत के तीन दिग्गज ब्लाँगोँ को चुना गया है ब्लाँग आँफ द मंथ के पुरस्कार के लिये , यहा क्लिक करके देख सकते हैँ>>

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही सन्देश देती रचना....जो जितना झुकता है उसे उतना ही झुकाया जाता है....अब देश की आम जनता , मजदूर सबको आदतें बदल लेनी चाह्य्रे ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. मंगलवार 27 जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ .... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं