शुक्रवार, 13 जून 2014

नेकी का सबब

हों कोई भी हम, कहीं भी हम 
करें कुछ भी, मगर यह सोचकर 
एक नेकी का सबब 
कई अंजानों को नेक बनाती है I

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें